Recent Updates Toggle Comment Threads | Keyboard Shortcuts

  • Priyamvada 9:41 am on January 25, 2019 Permalink | Reply
    Tags: darkness, English, fear, , , optimism, , positivity, self awareness   

    Last phase of Darkness 

    Hoping for dawn is very common ritual among dreamers, who strongly believes that one day this dark- night will end and ray of sunshine will appear.

    When you can’t see even your shadow

    When the the world can’t see you

    When the eyes are searching for light

    Within yourself ,just go deep inside

    You will slowly feel a ray of sunshine

    Coming from the hidden corners of your inner self

    Struggling to come out of you

    Fighting with the dust of your thoughts

    Piercing the gloom around you

    And you will find it difficult to believe

    But this is your only silver lining

    No matters what, but it is shining

    The commencement of brightness

    This is the last phase of darkness.

    ये कैसा सवेरा

    चारों तरफ एक गहरा अंधेरा था

    हो रहा ये कैसा सवेरा था।

    टूट के बिखरे हुए जो सपने थे

    शीशों ने उनके रोशनी बिखेरा था

    चारों तरफ एक गहरा अंधेरा था

    हो रहा ये कैसा सवेरा था।।

    उस रात मेरा साया भी तो साथ नहीं था

    कंधे पे चांदनी का भी तो हाथ नहीं था

    फिर भी कैसा ये बिखरा उजाला था

    किससे पूछुँ तब कोई ना मेरा था

    चोरों तरफ एक गहरा अंधेरा था

    हो रहा ये कैसा सवेरा था।।

    उस रात जाना दस्तूर दुनिया का

    रौशनी के पीछे भागती इस मजबूर दुनिया का

    अंधेरे जब खुद के अंदर होंगे तो किसी और से उजाले की चाह होगी

    पर क्यों ना हम खुद को ही ऐसा काबिल बनायें

    की गहरे अंधेरे में भी दूसरों को रास्ता दिखायें ।।

    ~प्रिyaम्vaदा

    Advertisements
     
    • Madhusudan 4:26 pm on January 30, 2019 Permalink | Reply

      kyaa khub likhaa hai.bahut hi khubsurat rachna.👌👌

      Liked by 1 person

    • Tarum Yadav 2:35 pm on January 27, 2019 Permalink | Reply

      Great written.

      Liked by 1 person

    • Abhay 4:17 pm on January 26, 2019 Permalink | Reply

      👌👌👍

      Liked by 1 person

    • Santosh Kr. 3:45 pm on January 25, 2019 Permalink | Reply

      👍

      Liked by 1 person

    • avinash singh 2:27 pm on January 25, 2019 Permalink | Reply

      ये कविता ऊर्जा से भरी हुई है । एक बार को सोचने पे मजबूर कर देने वाली । और जो सबसे खास बात है , वो है एहसास , उसकी कमी नही होने दी आपने । शुक्रिया इन खूबसूरत लफ्ज़ो के लिए । अपनी कोशिशें जारी रखिये । may god bless you with new words .

      Liked by 1 person

    • Adarsh Chaurasia 11:39 am on January 25, 2019 Permalink | Reply

      Mind boggling Magnum opus…

      I agree..
      Like a law of attraction..
      If we are grateful for whatever we have..
      Negativity will get vanished like a puff of smoke..

      We human are eternal source of energy..
      Gratitude turn our energy in eternal source of positivity..

      Always think that I m grateful for whatever I have.. I am eternal source of positivity.. feel like that I m greatest person ever born on this planet and I m thankful for all the people nd circumstances..

      Liked by 1 person

    • Anonymous 11:11 am on January 25, 2019 Permalink | Reply

      Awesome.. Di😍😍😍😍😍❤️

      Liked by 1 person

    • Anonymous 10:55 am on January 25, 2019 Permalink | Reply

      Superb poem

      Liked by 1 person

  • Priyamvada 11:30 am on January 24, 2019 Permalink | Reply
    Tags: Beginning, dawn, fresh start, ,   

    A Brand New Second 

    “A New Beginning”
    Let me repeat it one more time,
    “A Brand New Beginning”
    Really ?
    Beginning of what ?
    Is it means a fresh start of something?
    something for which we were eagerly waiting .
    But why we were waiting for a Dawn instead of enjoying the hours of Darkness with avidity.
    Let me tell you why,
    Because we always want a surprising reversal in life.
    Everybody wants to have second bite of the Apple.

    But when i say ” A Brand New Second ”
    Yeah, I am talking about basic unit for time – A second.
    Then,
    What’s comes in your mind?
    Is it excites to that much?
    If it is not enlivening you, then you need to think about this.
    Because the first light of dawn happens in that very second and every new breath is beginning of life.
    So whenever you need a fresh start in life, just take deep breath and here you go with a New Beginning.
    And the fresh canvas is available for you.
    Go ahead .

    ~प्रिyaम्vaदा

     
  • Priyamvada 5:02 am on January 24, 2019 Permalink | Reply
    Tags: दिखावापन, brag, humanity, insensitivity, internet World, , morality, , realization, screen addiction, social media addiction, virtual life   

    ज़िन्दां हूँ अभी 

    Be updated, not addicted

    Be sceptical, Not everything you see is real.

    Social media addiction is one the major reasons which hinders the truth behind every story. I am not saying that everything on social media is fake or irrelevant but affecting your real life for a so called virtual life is definitely not a good idea.

    This poem is about How we are ignoring the basic truth by just being a slave of virtual world.

    Being trendy, updated and modern does not means not using your ability to understand, question and reason.

    हाँ, हमने ज़मीं पे रहना छोड़ दिया

    जमीनी हकिकत को समझना छोड़ दिया

    औरों के लिए थोड़े दर्द को सहना छोड़ दिया

    हाँ, हमने जमीन पे रहना छोड़ दिया।।

    अब तो ऊंची- ऊंची इमारतें हैं बस

    और उनसे भी ऊंची ख्वाहिशें हैं अब

    पैरों को जमीं पे टिका कर आसमानों में उड़ना छोड़ दिया

    हाँ, हमने जमीन पे रहना छोड़ दिया।।

    हवा में सारे रिश्ते निभाते हैं हम

    Internet पे बस बातें बनाते हैं हम

    Post dedication से celebrations मनाते हैं हम

    दो पल साथ बैठकर अपनों का दर्द बाटनां छोड़ दिया

    हाँ, हमने जमीन पे रहना छोड़ दिया।।

    वक़्त के साथ बदलने में कुछ बुरा नहीं

    लक्ष्य का पीछा करने में कुछ बुरा नहीं

    पर मशीनों के बीच रह कर,

    इंसानियत की बातें करना छोड़ दिया

    हाँ, हमने जमीन पे रहना छोड़ दिया

    ज़िंदा हूँ अभी ये खुद से कहना छोड़ दिया

    हाँ, हमने ज़मीं पे रहना छोड़ दिया।।

    ~प्रिyaम्vaदा

    P.S.- These are my personal views about how we are changing with internet world. I am not against internet or technology or any social media platform.

     
    • Madhusudan 4:25 pm on January 30, 2019 Permalink | Reply

      Pratyek pnktiyaan laajwaab.umda lekhan.👌👌👌

      अब तो ऊंची- ऊंची इमारतें हैं बस

      और उनसे भी ऊंची ख्वाहिशें हैं अब

      पैरों को जमीं पे टिका कर आसमानों में उड़ना छोड़ दिया

      हाँ, हमने जमीन पे रहना छोड़ दिया।।

      Liked by 1 person

    • vipin bhati 12:57 pm on January 24, 2019 Permalink | Reply

      Well said Aadarsh bhaiya….
      Internet ne rishto ko bhula diya..
      Apno k beech fasla bda diya…
      Ab to ek sath rahne par bhi msg
      krte hai kaise ho…
      Dekh kr bolna aur muskurana
      bhi chhod diya…
      Kyuki saari hasi to status pd k nikal
      Jati hai….Apno ki baato m interest
      lena chhod diya….
      .
      I was trying to make rhyme but it doesn’t match i think
      But ye internet and social media logo ko aage badne se rok rha hai
      They have stopped think about their future and others who depend on them
      Nothing seems them besides internet
      This is a very serious disease….and they even don’t 9 when it became their addiction
      or disease

      Liked by 1 person

    • Adarsh Chaurasia 5:22 am on January 24, 2019 Permalink | Reply

      Excellent…
      Virtual world is destroying our real Beauty..
      We became obsessed with materialistic things and show off…
      Aaj insano se pyar nhi internet speed se pyar hai..
      Happiness hum like nd comments me dhundhate hai..
      Dusro ki internet profiles se khud Ko compare kar k happy nd sad feel karte hai..
      We had beome captive of social networking..
      But truth is….
      happiness to humare andar hoti hai…. inner peace come from gratitude not from show off….

      Liked by 2 people

  • Priyamvada 2:21 pm on January 9, 2019 Permalink | Reply
    Tags: अंदाज़ -ए-बयां, day dreaming, dreams, , , , reality, success, vision   

    Daydreaming 

    Fantasies are blameless but what if when it becomes a castle in the air and you start woolgathering about future. Actions are better than trying to pie in the sky, because in the end you will get nothing.

    हकीकत- अंदाज़-ए-बयां

    सपनों को रात के लिए छोड़ दो

    दिन में हकीकत में ही जिया करो।

    वो जो आग छुपा रखी है अंदर

    खुद की आहुति उसमें दिया करो।

    सपनों को रात के लिए छोड़ दो
    दिन में हकीकत में ही जिया करो। ।

    दौर सदियों से चला आया है बर्बादियों का

    तुम ना उस दौर में खुद की मशाल दिया करो।

    बंदिशें कल भी थीं और आज भी हैं तो क्या हुआ

    तोड़ उन बंदिेशों को खुल के कभी ऊडा़ करो।

    सपनों को रात के लिए छोड़ दो
    दिन में हकीकत में ही जिया करो। ।

    यूँ तो सपनों में चढे़ हैं तुमने पहाड़ कितने

    पर पांव छिल जाते हैं तेरे हकीकत के कंकडों से

    गर पाना है उस हिमालय की ऊँचाईयों को

    तो ठोकरें खा कर भी आगे को तुम बढ़ा करो

    सपनों को रात के लिए छोड़ दो
    दिन में हकीकत में ही जिया करो। ।

    गर कुछ टूट गया तो खुद को तोड़ते हो क्यूँ

    जो पीछे छूट गया उसे ना छोड़ते हो क्यूँ

    दर्द का हँस के तुम अंदाज़-ए-बयां किया करो

    सपनों को रात के लिए छोड़ दो
    दिन में हकीकत में ही जिया करो। ।

    ~ Priyamvada

     
  • Priyamvada 2:25 pm on August 30, 2018 Permalink | Reply
    Tags: , , , simplicity, true love   

     Inner Beauty 

    सादगी

    तेरे हुस्न की किताब से दो नग़में क्या पढ़े,
    कुछ काफ़िर भी तेरे इश्क़ में आबिद हो गये.

    तेरे दिल के पन्नों पर कभी गौर ही नहीं किया,

    और खामखा तेरी मोहब्बत के अफ़साने बन गये.

    तेरी आँखों के सूरूर के कायल,

    पलकों तले छुपे आंसू ना देख पाए.

    तेरे होंठों के जाम की हसरत रखने वाले,

    इस बेपरवाह हँसी से कभी रूबरू ना हुये.

    तेरे जिस्म के कैनवास पर रंग भरने की ख़्वाहिश रखने वाले.

    आज भी महरूम हैं तेरे रूह की सादगी से.

    ~प्रिyaम्vaदा

     
  • Priyamvada 11:07 am on August 21, 2018 Permalink | Reply
    Tags: , , , shades of women,   

    प्राहार 

    चल उठ के तू प्रहार कर

    निर्बलता का परित्याग कर|

    तू पार्वती तू ही काली

    खुद पर ज़रा विश्वास कर|

    तेरी आन बान शान का

    ऐसे ना तू उपहास कर|

    चल उठ के तू प्रहार कर

    निर्बलता का परित्याग कर|

     

    तू चोट कर उस सोच पर

    जो मानते तुझको बोझ बस|

    तू मान बन सम्मान बन

    हर घर की तू पहचान बन|

    तू पंख अपने खोल कर

    एक ऊँची सी उड़ान भर |

    चल उठ के तू प्रहार कर

    निर्बलता का परित्याग कर|

     

    खुद की ज़रा पहचान कर

    अब लाज का घूँघट खोल कर|

    तू तोड़ कर वो बेड़ियां

    खुद को ज़रा आज़ाद कर|

    चल उठ के तू प्रहार कर

    निर्बलता का परित्याग कर |

     

    इन आँसुओं को पोछ कर

    चल उठ के तू स्रिंगार कर|

    ममता का आँचल फैला कर

    नये जीवन का संचार कर|

    तू पार्वती तू ही काली

    खुद पर ज़रा विश्वास कर |

    चल उठ के तू प्रहार कर

    चल उठ के तू प्रहार कर ||

    ~Priyamvada

     
  • Priyamvada 5:32 am on August 21, 2018 Permalink | Reply
    Tags: , बदलते लोग, मौसम, , , , ,   

    मौसम-पतझड़ और सावन 

    बड़े मग़रूर और मसरूफ़ कभी वो भी थे
    आज जो याद में आंसू बहाया करते हैं|
    दर्द में देख भी साथ छोड़ देते थे
    आज वो राह में पलकें बिछाया करते हैं|
    बड़े मग़रूर और मशहूर कभी वो भी थे||

    हार पे हंस जो चुटकी बजाया करते थे
    जीत पे तारीफ़ों के पुल बनाया करते हैं|
    जो मुलाक़ात का भी ज़िक्र नहीं करते थे
    आज वो घर मुझे अपने बुलाया करते हैं|
    बडे़ मग़रूर और मशहूर कभी वो भी थे||

    कभी बनते जो अनजान रूबरू होकर
    आज वो दोस्त मुझे अपना बताया करते हैं|
    बात ये वक्त वक्त की है मगर सच्ची है
    लोग भी मौसम की तरह बदल जाया करते हैं||
    ~Priyamvada

     
  • Priyamvada 3:16 pm on August 12, 2018 Permalink | Reply
    Tags: , ,   

    तेरे ख़त की खुशबू 

    आज भी याद है तेरे ख़त की खुशबू मुझको

    धुंधले हो जाते थे आंसू से कुछ अक्षर तेरे|

    हम तो तेरी याद में शम्मा जलाये बैठे हैं

    शाम भी पूछती है वक्त तेरे आने का |

    फिर चला आता है यादों का एक झोंका ऐसा

    रात कट जाती है उड़ते हुये पत्तों की तरह |

    हाल कुछ ऐसा तेरी याद में मसरूफ़ियत का है

    अब तो आईना भी तरसता है दीदार को मेरे |

    आज भी याद है तेरे ख़त की खुशबू मुझको
    धुंधले हो जाते थे आंसू से कुछ अक्षर तेरे|

    ~Priyamvada

     
  • Priyamvada 9:21 am on August 12, 2018 Permalink | Reply
    Tags: , , , , , , , ,   

    झील सी 

    इक पल ठहर कर देख तू अपने अन्दर छुपी गहराईयों को,

    तेरी झील सी आँखों में तुझे दुनिया का हर नजारा दिखेगा.

    ~Priyamvada

     
  • Priyamvada 6:59 am on August 12, 2018 Permalink | Reply
    Tags: , , , मासूमियत, , , , , , , ,   

    मासूमियत 

    फूल खिलते रहे मासूमियत के डाली-डाली

    उनको पैरों से रोंधता रहा ज़माना सारा.

    बड़ी शिद्दत से सींचता रहा माली उनको

    किस कदर हाथों से मसलता रहा ज़माना सारा.

    फूल खिलते रहे मासूमियत के डाली-डाली||

    अभी तो खुशबू नहीं बिखरी थी ज़माने भर में

    किसी भौरे ने भी ना की थी दिल्लगी कोई.

    तोड़ के फेंक दिया बगिया से बड़ी बेरहमी से

    उनकी शराफ़त से खेलता रहा ज़माना सारा.

    फूल खिलते रहे मासूमियत के डाली-डाली

    उनको पैरों से रोंधता रहा ज़माना सारा||

    ~Priyamvada

     
    • avinash singh 2:43 pm on January 25, 2019 Permalink | Reply

      Heart touching..

      Like

    • TrueWonderer 7:31 pm on November 4, 2018 Permalink | Reply

      बहोत उम्दा!.. 👏
      इन वहशीयों के जुल्म पे भी लगाम लगने लगेगी,
      रोंधे हुए फूलों के कातों से इनकी नसें कटने लगेंगी|

      Liked by 1 person

    • Riya jain 1:06 pm on August 12, 2018 Permalink | Reply

      Its awesome…… Just like you are awesome…… Great thought…… everyone should think like this….then only this dirtiness will be diminished…. Well a good start on this..

      Liked by 1 person

    • Vandana 8:21 am on August 12, 2018 Permalink | Reply

      Awsm bahoiiit khub likhaaaaaa hai lajawab bemishaaaaaaaal

      Liked by 1 person

c
Compose new post
j
Next post/Next comment
k
Previous post/Previous comment
r
Reply
e
Edit
o
Show/Hide comments
t
Go to top
l
Go to login
h
Show/Hide help
shift + esc
Cancel