एहसास · दिल

दिल में

तुम रहने लगे मेरे दिल में जबसे,

आ गयी मेरी दुनिया में बहार तब से.

तुम चाहो मुझे ये हसरत है मेरी,

मैं चाहूँ तुम्हें ये आदत है मेरी.

तुम्हें देखते ही खो सी जाती हूँ मैं,

बस ये तुमसे कह नहीं पाती हूँ मैं.

अब तो दुआओं में भी तुम ही बसे हो,

तुम जब से इस दिल में रहने लगे हो.

~Priyamvada
© ALL COPYRIGHTED RESERVED